न्यू इण्डिया 2030 का राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित

0
1811

मुंबई 04 मार्च। एलूमिनी एसोसिएशन, एनसीई बंगाल व जवधपुर विश्वविद्यालय और द एसोसिएटिड चैंबर्स आॅफ काॅमर्स व इंडस्ट्री आॅफ इण्डिया की संयुक्ती से शनिवार को दि ललित, मुंबई अन्तराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर न्यू इण्डिया 2030 का राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का आयोजन सुधार, प्रदर्शन और परिवर्तन के तर्ज पर किया गया।
कार्यालय में मुख्य अतिथि के तौर पर भारत के पूर्व प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार डाॅ0. आर0 चिदम्बरम मौजूदा हुये। यह कार्यक्रम सुबह करीब 09 बजे से शुरू होकर शाम 06 बजे तक चला।
पृष्ठभूमि- जादवपुर विश्वविद्यालय पूर्व छात्र संघ (मुंबई शाखा) विभिन्न पहलों के माध्यम से बड़े पैमाने पर समाज में सक्रिय रूप से योगदान दे रहा है। ज्ञान संबंधी पहलुओं के एक भाग के रूप में, इस विषय पर एक राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित करने का प्रस्ताव है।
प्रस्तावना- वर्ष 2030 तक भारत के दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने का अनुमान है। 2019-21 की अवधि के दौरान डिजिटल भुगतान लेनदेन में 37 फीसद सीएजीआर के साथ, भारत में 87 फीसद की उच्चतम फिनटेक अपनाने की दर है जो वैश्विक औसत 64 फीसद से काफी अधिक है। विश्व स्तर पर, भारत स्टील का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है। दुनिया भर में, भारत फार्मास्यूटिकल्स के उत्पादन में मात्रा के हिसाब से तीसरे स्थान पर है। यात्री यातायात के मामले में भारत के पास दुनिया का सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है। भारत के पास विश्व स्तर पर सबसे बड़ी नवीकरणीय ऊर्जा विस्तार योजना है। इसलिए, यह काफी तार्किक है कि वित्तीय वर्ष 2021-22 के दौरान भारत ने 83.57 बिलियन डॉलर का अब तक का सबसे अधिक एफडीआई प्रवाह आकर्षित किया।